• Home
  • /
  • Blog
  • /
  • शिशु विद्यालय के छात्रों के लिए 5 आवश्यक गणित कौशल

शिशु विद्यालय के छात्रों के लिए 5 आवश्यक गणित कौशल

दिसम्बर 15, 2020

5-Essential-Math-Skills-for-Preschoolers

This post is also available in: English (English) العربية (Arabic)

इससे पहले कि वे स्कूल शुरू करें, ज्यादातर बच्चे रोजमर्रा की बातचीत के जरिए गणित की समझ विकसित कर लेते हैं। जानिये वे कौन सी अनौपचारिक गतिविधियाँ हैं जो बच्चों को गणित सीखने में मददगार साबित होती हैं। ये हैं शिशु विद्यालय के छात्रों के लिए 5 आवश्यक गणित कौशल। प्रीस्कूलर के लिए ये गणित गतिविधियाँ एक मजबूत नींव बनाने में मदद करती हैं।

CodingHero - शिशु विद्यालय के छात्रों के लिए 5 आवश्यक गणित कौशल MathSkillsPreschoolers

प्रीस्कूलर के लिए गणित गतिविधियाँ

यहां पांच सबसे महत्वपूर्ण कौशल हैं जो एक बच्चे को स्कूल जाने से पहले पता होना चाहिए।

1. बड़ा या छोटा

बड़े और छोटे के बीच अंतर को सिखाना आमतौर पर बच्चों के लिए शुरुआती बिंदु होता है। यह उन्हें गणितीय अवधारणाओं को सीखने में मदद करता है। यदि रोचक तरीके से पढ़ाया जाए, तो बच्चे अवधारणा जल्दी सीखते हैं। यदि बच्चा आनंद लेता है कि वह क्या कर रहा है, तो बच्चा जल्द ही सीख जाता है। ये कुछ गतिविधियाँ हैं जिनका उपयोग बड़ा और छोटा की अवधारणा को पेश करने के लिए किया जा सकता है। अधिकांश शिशु विद्यालय के बच्चे इस बात से आनंद लेते हैं कि वे कितने बड़े हैं, या खुद को अन्य वस्तुओं या बच्चों से तुलना करना पसंद करते हैं। इस प्रकार की गतिविधियाँ उन्हें बहुत रुचिकर लगती हैं।

प्रीस्कूलर के लिए गणित की गतिविधियाँ

यहां कुछ गतिविधियां दी गई हैं जिन्हें आप अपने बच्चे के साथ आजमा सकते हैं:

  1. संगीत, बच्चों के लिए नई अवधारणाओं को पेश करने का एक शानदार तरीका है। बड़े और छोटे के बारे में कुछ नर्सरी राइम उन्हें सुनाएँ। यह कुछ बड़े और छोटे के बारे में नर्सरी राइम्स हैं।
  1. 2 आकारों की चीजों से युक्त विभिन्न वस्तुओं का एक बॉक्स बनाएं। उदाहरण के लिए, एक बड़ा पत्थर और एक छोटा पत्थर, एक लंबी पेंसिल और एक छोटी पेंसिल, एक बड़ा जार और एक छोटा जार। 2 खाली डिब्बे, एक बड़ा और एक छोटा लें, और अपने बच्चे से पूछें कि वह उन्हें बड़े और छोटे सामान को छाँटने में मदद करे।
  2. बड़ी और छोटी वस्तुओं के उदाहरण दिखाते हुए, अपने बच्चे के साथ सामान्य बातचीत में भी, जितना हो सके, दैनिक जीवन में ‘बड़े’ और ‘छोटे’ शब्दों का प्रयोग करें।
  3. कुछ पन्नों को एक साथ स्टेपल करके एक किताब बनाएं। अपने बच्चे को छोटी चीजों और बड़ी चीजों को बनाने (ड्रा) करने के लिए कहें। आप किसी भी पुरानी पत्रिका में छोटी और बड़ी वस्तुओं की तस्वीरें देखने के लिए कह सकते हैं, उन्हें काट और किताब में चिपकाने के लिए कह सकते हैं।
  4. खेल हमेशा मजेदार होते हैं और सभी बच्चे उन्हें पसंद करते हैं, खासकर बाहरी खेल। आप बच्चे को निर्देश दे सकते हैं जैसे कि “कुछ बड़ी चीज़ के पीछे छिप जाये”, “सबसे बड़ी / सबसे छोटी चीज जो उसे दिख रहा है” उसे छुए।

2. अधिक या कम

बच्चों को अधिक और कम अवधारणा सिखाना उनकी शिक्षा का अनिवार्य हिस्सा है। इससे उन्हें वस्तुओं की संख्या की तुलना करने और यह पहचानने में मदद मिलती है कि कौन सी वस्तु कम या ज्यादा है। अधिक और कम की अवधारणा को केवल शब्दों के बजाय खिलौने, आकर्षक वस्तुओं, फलों, सब्जियों आदि का उपयोग करके सिखाया जा सकता है। अनुसंधान इस बात का समर्थन करते हैं कि बच्चे शब्दों या पाठ की तुलना में दृश्य संरचना से बेहतर सीखते हैं।

कम या अधिक की अवधारणा को वस्तुओं के दो समूह बनाकर समझाया जा सकता है और बच्चे को दो समूहों में वस्तुओं का मिलान या गिनती करने को कह सकते हैं। यह कौशल एक बच्चे को मदद करता है

  • मिलान या गणना करके बताएं कि किस समूह में वस्तुओं की संख्या अधिक या काम है।
  • मिलान या गणना करके बताएं कि किस समूह में वस्तुओं की संख्या अधिक या काम है।
  • बताएं कि समूह मिलान या गिनती के अनुसार कब समान हैं

3. लंबा या छोटा

लंबे और छोटे किंडरगार्टन गणित की अवधारणाएं हैं जिन्हें बाद में वस्तुओं की तुलना करने के लिए बच्चों को समझने की आवश्यकता होती है। यहाँ कुछ गतिविधियाँ हैं जिनसे एक बच्चे को तुलनात्मक शब्द सीखने में मदद मिलती है – लंबी और छोटी और कैसे इन अवधारणाओं को दैनिक जीवन में लागू किया जाए।

लंबे और छोटे की अवधारणा को लागू करने के लिए उन वस्तुओं का उपयोग करें जिसमे बच्चे रूचि लेते हों। ऐसी कुछ गतिविधियाँ इस प्रकार हैं:

  1. क्रेयॉन का उपयोग कर के: एक टेबल पर क्षैतिज रूप से समान लंबाई के दो क्रेयॉन रखें। समझाएं कि क्रेयॉन समान लंबाई के हैं। अब, टेबल पर अलग-अलग लंबाई के क्रेयॉन रखें और तुलना करके लंबे और छोटे का अर्थ समझाएं।
  2. स्ट्रॉ का उपयोग करके: एक स्ट्रॉ को अलग अलग लंबाई के टुकड़ों में काटें। सुनिश्चित करें कि कम से कम दो टुकड़े समान लंबाई के हों।
  3. मिट्टी के मॉडल: केंचुआ और कैटरपिलर बनाने के लिए एक बच्चे को प्ले-डोह या मिट्टी दें। बच्चे को लंबे, और लंबे, और सबसे लंबे या छोटे, और छोटे और छोटे केंचुए और कैटरपिलर बनाने के लिए मार्गदर्शन करें।
  4. संगीत और राइम्स: बच्चे के लम्बे व छोटे पर आधारित राइम्स का आनंद लें। यहां नर्सरी के कुछ राइम लंबे और छोटे पर हैं।

4. भारी या हल्का

पूर्वस्कूली बच्चे माप की मूल अवधारणाओं को जल्दी से समझ लेते हैं।

  1. विभिन्न वस्तुओं का उपयोग करना: विभिन्न वस्तुओं जैसे, पंख और कंकड़ को कुछ ऊंचाई से छोड़ें और बच्चे को निर्धारित करने को कहें कि कौन सी वास्तु भारी या हलकी है।
  2. स्केल का उपयोग: विभिन्न प्रकार की “भारी” और “हलकी” वस्तुओं को माप कर अलग-अलग दो बक्सों में रखें। आप कंघी, ब्रश, पेन, पेंसिल, आदि घरेलू वस्तुएँ उपयोग कर सकते हैं।
  3. यहाँ भारी और हलके के बारे में कुछ नर्सरी राइम्स हैं।

5. समान और भिन्न

छंटनी (सॉर्टिंग) एक बच्चे के लिए पेश की जाने वाली पहली अवधारणाओं में से एक है। यह एक आवश्यक कौशल है, जो किसी भी बच्चे के लिए सबसे पहले वाले कौशलों में एक है। उन्हें यह जानने की जरूरत है कि छँटाई की अवधारणा को समझने के लिए वह क्या है जो वस्तुओं को समान और अलग बनाता है। विविधता गतिविधियां छोटे बच्चों को प्रकृति में अंतर का सम्मान करना सिखाती हैं।

  1. समान और भिन्न की अवधारणा को मोजों की जोड़ी, पेंसिल, ब्लॉक, आदि जैसी चीजों का उपयोग करके सिखाया जा सकता है।
  2. सामान और भिन्न केश आपको अलग-अलग हेयर स्टाइल, प्रकार की तस्वीरें चाहिए। बाल बनावट और कर्ल के बारे में बात करके बच्चों को विभिन्न प्रकार के बालों की पहचान करने के लिए कहें। उदाहरण के लिए, कुछ लोगों के बाल पतले होते हैं जबकि कुछ के बाल मोटे होते हैं। कुछ लोगों के बाल सीधे होते हैं और कुछ लोगों के बाल घुंघराले होते हैं। इस बारे में बात करें कि लोगों के बालों के रंग, लंबाई और स्टाइल अलग-अलग हैं।
  3. सामान और भिन्न पर कुछ नर्सरी कविताएँ हैं:

{"email":"Email address invalid","url":"Website address invalid","required":"Required field missing"}
>